Press "Enter" to skip to content

बड़ी खबर: ताजमहल अब जल्द कहलाएगा राम महल

दुनिया के सात अजूबो में से एक ताजमहल (Taj Mahal) अब राम महल बनने वाला है. ये कहना है उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के बैरिया से विधायक सुरेंद्र सिंह का.

यह भी पढ़े: कलियुग: 50 कुत्तों के साथ रेप करने वाला दरिंदा गिरफ्तार

ये बयान उन्होंने मीडिया से बातचीत में दिया है. उनका कहा है कि ताज महल पहले शिव मंदिर था और वो बहुत जल्द राम महल होने वाला है.

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश की धरती पर शिवाजी के वंशज (योगी) आ चुका है. उन्होंने कहा जैसे समर्थ गुरु रामदास ने भारत को शिवाजी प्रदान किया था वैसे ही गोरखनाथ जी ने शिवाजी के रूप में उत्तर प्रदेश को योगी आदित्यान दिया है. इसके बाद उन्होंने कहा कि ताजमहल शिव मंदिर था और जल्दी ही योगी राज में ताजमहल को राम महल बनाया जाएगा

यह भी पढ़े: करेंट से पहले झटका: ग्राहकों से 1,700 रूपए वसूली…नहीं दे रहे रसीद…जानिए पूरा माजरा

ताजमहल की कुछ रोचक बातें

  1. ताजमहल को शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था और मुमताज की मौत 14 वें बच्चे को जन्म देते हुए हुई थी.
  2. दुनिया के सात अजूबों में प्रसिद्ध ताजमहल भारत के उत्तर प्रदेश राज्य आगरा में स्थित है.
  3. ताजमहल को 1983 में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल में सम्मिलित किया गया इसके साथ ही ताजमहल को सबसे जायदा प्रशंसा पाने वाली, अत्युत्तम मानवी कृतियों में से एक बताया गया है.
  4. ताजमहल का वास्तुकार उस्ताद अहमद लाहौरी को कहा जाता है.
  5. ताजमहल का कार्य निर्माण 1632 में शुरू किया गया और 1653 में पूर्ण हुआ था इस ईमारत को बनाने में 22 वर्ष का समय लगा था.
  6. आपको जानकर हैरानी होगी ताजमहल लकड़ियों पर खड़ा हुआ है यह ऐसी लकडिया है जिसे मजबूत रहने के लिए नमी की जरूरत पड़ती है और यह नमी ताजमहल के बाएं तरफ यमुना नदी से मिलती नहीं तो अब तक ताजमहल गिर गया होता .
  7. ताजमहल की चारों मीनारों को इस प्रकार से बनाया गया है कि अगर कोई आपदा जैसे भूकंप या बिजली गिरे तो यह मीनारें बीच वाले को गुबंद पर बिल्कुल नहीं गिर सकती है. इसीलिए ताजमहल की चारों मीनारें थोड़ी झुकी हुई हुवी नजर आती है .
  8. गुंबदनुमा इस इमारत को जब आप सिर उठाकर देखेंगे तो ये आपको किसी अजूबे से कम नहीं लगेगी. आप जैसे—जैसे इससे दूर जाते हैं, ये आपको अपनी ओर आकर्षित करती है. यही कारण है कि इस इमारत को दुनिया के सात अजूबों में शुमार किया गया है.
  9. ताजमहल को 42 एकड़ की जमीन पर बना कर तैयार किया गया है इसको बनाने के लिए करीब 20,000 से अधिक मजदूर लगाए गए थे और इसके गुंबद बनाने में 15 वर्ष लग गए थे तथा ताजमहल को पूरा बनाने में 22 वर्ष का समय लगा .
  10. ताजमहल के निर्माण के लिए 28 किस्म के पत्थरों का प्रयोग किया गया है . ये पत्थर बगदाद, अफगानिस्तान, तिब्बत, मिश्र, रूस, ईरान आदि कई देशों के अलावा राजस्थान से मंगाए गए थे.

यह भी पढ़े: बीयर के शौकीनों के लिए खुशखबरी: एक अप्रैल से कम हो जाएंगे चिल्ड बीयर के दाम…जानिए वजह

ताजमहल के बारे में ये बात आपको पता हैं ?

  1. इन पत्थरों का ही कमाल है कि ताजमहल सुबह गुलाबी, दिन में सफेद और पूर्णिमा की रात को सुनहरा नजर आता है.
  2. ताजमहल के बहार पानी की जील में सभी फव्वारे एक साथ काम करते है इनके नीचे एक टैंक लगा है. टैंक भरने के बाद दबाव बनने पर ये फव्वारे एकसाथ पानी छोड़ते हैं जिससे ताजमहल की खूबसूरती में और चार चांद रखते हैं.
  3. आपको जानकर हैरानी होगी ताजमहल भारत की सबसे ऊंची मीनार कुतुब मीनार से 3 मीटर अधिक ऊंचा है .
  4. ताजमहल का हैरान कर देने वाला रोचक तथ्य जब ताजमहल को पूरा बना दिया गया था तब शाहजहां ने सभी कारीगरों एवं मजदूर शिल्पकार सभी के हाथ कटवा दिए थे. क्योकि शाहजहां चाहते थे कि ताजमहल जैसा महल दुनिया में कभी भी ना बन पाए.

यह भी पढ़े: गर्भवती पत्नी को चाकू मारकर फरार हुआ पति…6 महीने पहले मंदिर में की थी शादी

More from छत्तीसगढ़More posts in छत्तीसगढ़ »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *