Press "Enter" to skip to content

छत्तीसगढ़ के “आयुष्मान आपके द्वार” अभियान का देश में बजा डंका

रायपुर। छत्तीसगढ़ में आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए चलाए जा रहे ‘आयुष्मान आपके द्वार’ कैंपेन का देशभर में डंका बज रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने एक दिन में छह लाख 31 हजार कार्ड बनाकर देश में नंबर वन का तमगा हासिल किया था। अब गरियाबंद के आदिवासी इलाकों में इंटरनेट की समस्या से जूझने के बावजूद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने तीन दिन में 502 कार्ड बनाए हैं।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मनोज कुमार साव और जलसे नेताम के काम की तारीफ करते हुए ट्वीट किया। प्रसाद ने बताया कि दोनों स्वयंसेवकों ने गरियांबद में तीन दिन में 502 लोगों का कार्ड बनाया, यह डिजिटल इंडिया के कारण ही सफल हो पाया है। सीएससी वेल्स ने देश की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत के कार्ड बनाने के लिए आदिवासी बाहुल के अंदरुनी इलाकों में अभियान शुरू किया है।

इस कार्ड के माध्यम से लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है। छत्तीसगढ़ में आयुष्मान भारत अभियान के प्रभारी डा. श्रीकांत राजिमवाले ने बताया कि प्रदेश में अब तक एक करोड़ 10 लाख लोगों का आयुष्मान भारत कार्ड बना है। इस कार्ड से बीपीएल परिवार को पांच लाख और एपीएल परिवार को 50 हजार तक का मुफ्त इलाज किया जा रहा है।

उन्‍होंने बातया कि आयुष्मान भारत योजना में छत्तीसगढ़ देश के अन्य राज्यों की तुलना में एक नंबर पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत छत्तीसगढ़ के बीजापुर से की थी। वर्ष 2008 में देशभर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना लागू की गई थी, जिसमें गरीब परिवार के लोगों को चिकित्सा सुविधा का लाभ देने का प्रविधान था। इसके बाद वर्ष 2012 में छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार ने मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना शुरू की। इस योजना में उन लोगों को शामिल किया गया, जो राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के दायरे से बाहर थे।

More from रायपुरMore posts in रायपुर »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *