बिलासपुर

मनरेगा में भ्रष्टाचार: जिला पंचायत कार्यालय का रोजगार सहायक बर्खास्त…सचिव सस्पेंड और सरपंच को हटाने के आदेश

बिलासपुर। जिले में मनरेगा में भ्रष्टाचार के चलते जिला पंचायत कार्यालय के रोजगार सहायक को बर्खास्त कर दिया गया है। वहीं सचिव को सस्पेंड और सरपंच को हटाने के आदेश दिए गए हैं। सभी पर फर्जी मस्टर रोल बनाने और अनियमितता की जांच में दोषी पाए जाने के बाद कार्रवाई की गई है। यह पहला मौका है जब पंचायत में महत्वपूर्ण पदों पर बैठे तीन व्यक्तियों पर एक साथ कार्यवाही की गई है।

इसे भी पढ़े: ऐसा दिखता है मंगल ग्रह: NASA ने जारी की HD तस्वीरें…देखिये कहां-कहां गिरे रोवर के हिस्से

दरअसल, कोरोना काल में लॉक डाउन लगा था और मजदूर बाहर से आकर क्वारैंटाइन सेंटरों में रुके हुए थे। उस समय तखतपुर के जुनापारा ग्राम पंचायत में मनरेगा कार्य कराए गए थे। इसे लेकर युवा कांग्रेस नेता रामेश्वरपुरी गोस्वामी ने RTI के तहत जानकारी लेने के बाद जनपद पंचायत में शिकायत की थी। आरोप लगाया था कि मस्टर रोल में ऐसे व्यक्तियों के नाम लिखे गए, जो क्वारैंटाइन सेंटर में हैं। इनमें प्राइवेट अस्पताल के भी कर्मचारी शामिल हैं।

इसे भी पढ़े: अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्रम्प का फैसला पलटा: जो बाइडेन ने ग्रीन कार्ड पर लगी रोक हटाई…कहा- दूसरे देशों के टेलेंट को रोकना हमारे हित में नहीं

जांच टीम ने सभी पर लगे आरोप सही पाए, फिर कार्यवाही की संस्तुति की गई

शिकायत में यह भी बताया कि यह सभी कभी मनरेगा के काम में नहीं गए। फर्जी मस्टर रोल भरकर शासन को आर्थिक नुकसान पहुंचाया। शिकायत के बाद जांच टीम का गठन किया गया था। जांच में सभी आरोप सही पाए गए। इसके बाद जिला पंचायत ने रोजगार सहायक ओमप्रकाश जायसवाल को बर्खास्त कर दिया। जबकि सचिव अयोध्या प्रसाद तिवारी को सस्पेंड और जुनापारा सरपंच गीता मोती लाल चतुर्वेदी को पद से हटाने के आदेश दिए हैं।

इसे भी पढ़े: पुलिस पर अपहरण का आरोप: बिलासपुर हाईकोर्ट के आदेश पर भी जांच नहीं…छत्तीसगढ़ और ओडिशा के मुख्य सचिव व DGP को जारी हुआ अवमानना नोटिस…जानिए पूरा मामला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *