Press "Enter" to skip to content

बस्तर टाइगर शहीद महेंद्र कर्मा के बेटे दीपक कर्मा का निधन; रायपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में चल रहा था इलाज

छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने बुधवार देर रात कोरोना संक्रमण के चलते अपना एक और नेता खो दिया। प्रदेश कांग्रेस महासचिव दीपक कर्मा (44) का उपचार के दौरान निधन हो गया। संक्रमण के चलते ज्यादा तबीयत बिगड़ने पर उन्हें रायपुर के MMI नारायणा सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। दीपक कर्मा, बस्तर टाइगर कहे जाने वाले शहीद महेंद्र कर्मा के बेटे थे। उनकी मां देवती कर्मा दंतेवाड़ा से कांग्रेस की विधायक हैं।

 

फेसबुक पोस्ट के जरिए संक्रमित होने की दी थी जानकारी

कांग्रेस नेता दीपक कर्मा ने 12 अप्रैल को फेसबुक पोस्ट के जरिए खुद के कोरोना संक्रमित होने की जानकारी दी थी। उन्होंने लिखा था कि कोविड एंटीजन टेस्ट में उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनके संपर्क में आने वाले सभी लोगों से निवेदन है कि वे अपना ख्याल रखें। किसी भी प्रकार का लक्षण दिखने पर अपना टेस्ट जरूर करा लें। हालांकि हालत में सुधार नहीं होने पर उन्हें बाद में जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया।

 

 

 

फेफड़ों में संक्रमण अधिक होने के कारण रायपुर किया गया रेफर

कांग्रेस महासचिव दीपक कर्मा के फेफड़ों में संक्रमण ज्यादा था। लगातार तबीयत बिगड़ती देख उन्हें 3-4 दिन पहले रायपुर रेफर कर दिया गया था। वहां अस्पताल में वह वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे। उनकी तबीयत को लेकर मंगलवार को ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने डॉक्टरों से बात की थी। हालांकि रात करीब 3 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। दीपक कर्मा दंतेवाड़ा नगर पालिका के लगातार 3 बार अध्यक्ष रहे। उन्होंने बस्तर लोकसभा से चुनाव भी लड़ा।

 

संक्रमण के चलते ज्यादा तबीयत बिगड़ने पर उन्हें रायपुर के MMI नारायणा सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

संक्रमण के चलते ज्यादा तबीयत बिगड़ने पर उन्हें रायपुर के MMI नारायणा सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

 

 

NSUI से शुरू किया था राजनीतिक करियर, लोकसभा चुनाव तक पहुंचा

 

दीपक कर्मा ने छात्र जीवन से राजनीति में कदम रखा। पहली बार वह 1993 से 1995 तक बस्तर डिवीजन में NSUI के उपाध्यक्ष बने। उनके कार्यों को देखते हुए 1996 में बस्तर के ट्राइबर विंग का अध्यक्ष बनाया गया। साल 1999 में दंतेवाड़ा नगर पंचायत में पार्षद चुने गए। फिर कांग्रेस में उनका कद बढ़ता गया। युवाओं में उनकी लोकप्रियता को देखते हुए 2010 में दंतेवाड़ा ओलंपिक एसोसिएशन का अध्यक्ष बनाया गया। 2013 में प्रदेश कांग्रेस महासचिव बने। तीन बार लगातार दंतेवाड़ा नगर पंचायत के अध्यक्ष चुने गए। उन्होंने 2014 में लोकसभा चुनाव भी लड़ा। हालांकि हार का सामना करना पड़ा।

 

दीपक कर्मा का राजनीतिक सफर

 

1993 से 1995 : बस्तर डिवीजन में NSUI के उपाध्यक्ष रहे

1996 से 2000 : बस्तर डिवीजन में आदिवासी विंग के महासचिव

1999-2004 : दंतेवाड़ा नगर पंचायत में पार्षद चुने गए

2004 से 2019 : लगातार तीन बार दंतेवाड़ा नगर पंचायत के अध्यक्ष चुने गए

2000 से अब तक : दंतेवाड़ा डिस्ट्रिक्ट ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष

2006 से 2011 : दंतेवाड़ा यूथ कांग्रेस अध्यक्ष

2011 से 2012 : प्रदेश यूथ कांग्रेस के महासचिव

2012 से 2013 : छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस के सचिव

2013 से 2018 : प्रदेश कांग्रेस महासचिव

2014 : लोकसभा वुनाव भी लड़ा, लेकिन हार का सामना करना पड़ा था।

2018 से अब तक : प्रदेश कांग्रेस सदस्य महासचिव

एक माह में कांग्रेस के 4 नेताओं की हो चुकी है मौत

प्रदेश में एक माह के दौरान 4 कांग्रेस नेता की कोरोना संक्रमण से मौत हो चुकी है। इससे पहले 25 अप्रैल को बिलासपुर नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष रह चुके बसंत शर्मा का निधन हुआ था। इलाज के दौरान उन्हें हार्ट अटैक हो गया। वहीं 6 अप्रैल को गरियाबंद में महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष ममता राठौर की मौत हुई। वह असम चुनाव प्रचार से लौटी थीं। इसके बाद 10 अप्रैल को गरियाबंद में ही छुरा ब्लाक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजू ठाकुर का निधन हो गया।

More from छत्तीसगढ़More posts in छत्तीसगढ़ »
More from बस्तरMore posts in बस्तर »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *