Press "Enter" to skip to content

मानहानि मामला: दिग्विजय सिंह के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी…जाने वजह

SNN24 NEWS DESK:- हैदराबाद की एक अदालत ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ मानहानि के एक मामले में उसके समक्ष उपस्थित नहीं होने को लेकर सोमवार को गैर जमानती वारंट जारी किया। यह मामला उनके खिलाफ 2017 में दायर किया गया था। सांसदों-विधायकों के खिलाफ मामलों पर सुनवाई के लिए गठित विशेष अदालत ने दिग्विजय सिंह के उसके समक्ष उपस्थित होने में विफल रहने के बाद गैर जमानती वारंट जारी किया।

इसे भी पढ़े: बड़ा फैसला: 26 फरवरी को पूरे देश में बंद रहेंगे बाजार…जानिये वजह

सिंह के खिलाफ मानहानी का यह मामला एआईएमआईएम नेता एस ए हुसैन अनवर ने दायर किया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि सिंह ने यह कहकर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की मानहानि की कि हैदराबाद के सांसद की पार्टी वित्तीय लाभों के लिये दूसरे राज्यों में चुनाव लड़ रही है।

इसे भी पढ़े: फोटोशूट मामला: CM भूपेश बघेल ने ली पुलिस, विमानन और इंटेलिजेंस अफसरों की बड़ी बैठक…नव-दंपत्ति की गलती को किया माफ़

याचिकाकर्ता के वकील, मोहम्मद आसिफ अमजद ने कहा कि उन्होंने दिग्विजय सिंह और लेख प्रकाशित करने वाले एक उर्दू दैनिक के संपादक दोनों को कानूनी नोटिस भेजे थे और माफी मांगने को कहा था लेकिन उन दोनों ने जवाब नहीं दिया जिसके बाद उन्होंने अदालत का रुख किया।

इसे भी पढ़े: छत्तीसगढ़ के किसान सावधान: ऑनलाइन बिक रहे ‘रेड लेडी’ के नकली बीज

सुनवाई की पिछली तारीख के दौरान, अदालत ने निर्देश दिया था कि दिग्विजय सिंह और संपादक 22 फरवरी को उसके समक्ष उपस्थित हों। अमजद ने बताया कि संपादक ने ऐसा किया, लेकिन सिंह अदालत में पेश नहीं हुए। अमजद ने कहा कि दिग्विजय सिंह के वकील ने एक याचिका दायर करके चिकित्सा आधार पर उपस्थिति से छूट की मांग की थी, लेकिन अदालत ने इसे खारिज कर दिया और गैर जमानती वारंट जारी किया।

इसे भी पढ़े: छत्तीसगढ़ हर्बल की अंतर्राष्ट्रीय बाजार में एंट्री…दुबई में भी बना आकर्षण का केन्द्र

अदालत ने मामले की अगली सुनवाई आठ मार्च को तय की है। सिंह के वकील ने कहा कि उन्होंने कार्यवाही को रद्द करने के लिए हाई कोर्ट के समक्ष पहले ही रोक को बढ़ाने के लिये याचिका दायर कर दी है।

इसे भी पढ़े: LIC ग्राहकों के लिए खुशखबरी: नया प्लान किया लांच…फिक्सड इनकम के साथ मिलेंगे कई फायदे

हैदराबाद की एक अदालत ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ मानहानि के एक मामले में उसके समक्ष उपस्थित नहीं होने को लेकर सोमवार को गैर जमानती वारंट जारी किया। यह मामला उनके खिलाफ 2017 में दायर किया गया था। सांसदों-विधायकों के खिलाफ मामलों पर सुनवाई के लिए गठित विशेष अदालत ने दिग्विजय सिंह के उसके समक्ष उपस्थित होने में विफल रहने के बाद गैर जमानती वारंट जारी किया।

इसे भी पढ़े: सबसे बड़ा साइबर क्राइम: 300 करोड़ पासवर्ड हैक…कहीं आपका भी तो नहीं?

सिंह के खिलाफ मानहानि का यह मामला एआईएमआईएम नेता एस ए हुसैन अनवर ने दायर किया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि सिंह ने यह कहकर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की मानहानि की कि हैदराबाद के सांसद की पार्टी वित्तीय लाभों के लिये दूसरे राज्यों में चुनाव लड़ रही है।

इसे भी पढ़े: घरेलू बजट बिगड़ा: पेट्रोल-डीजल के बाद अब प्याज की आसमान छूती कीमतों से आम आदमी परेशान…45 दिनों में भाव हुआ दोगुना…जानिए वजह

याचिकाकर्ता के वकील, मोहम्मद आसिफ अमजद ने कहा कि उन्होंने दिग्विजय सिंह और लेख प्रकाशित करने वाले एक उर्दू दैनिक के संपादक दोनों को कानूनी नोटिस भेजे थे और माफी मांगने को कहा था लेकिन उन दोनों ने जवाब नहीं दिया जिसके बाद उन्होंने अदालत का रुख किया।

इसे भी पढ़े: आरक्षक पर पदस्थ थाने मे दर्ज हुआ दुष्कर्म का मामला…शादी का झांसा देकर युवती का कर रहा था दैहिक शोषण…पढ़े पूरी खबर

सुनवाई की पिछली तारीख के दौरान, अदालत ने निर्देश दिया था कि दिग्विजय सिंह और संपादक 22 फरवरी को उसके समक्ष उपस्थित हों। अमजद ने बताया कि संपादक ने ऐसा किया, लेकिन सिंह अदालत में पेश नहीं हुए। अमजद ने कहा कि दिग्विजय सिंह के वकील ने एक याचिका दायर करके चिकित्सा आधार पर उपस्थिति से छूट की मांग की थी, लेकिन अदालत ने इसे खारिज कर दिया और गैर जमानती वारंट जारी किया।

इसे भी पढ़े: आधार कार्ड को लेकर जरुरी खबर: कहां और कितनी बार हुआ इस्तेमाल? ऐसे पाए पूरी जानकारी

अदालत ने मामले की अगली सुनवाई आठ मार्च को तय की है। सिंह के वकील ने कहा कि उन्होंने कार्यवाही को रद्द करने के लिए हाई कोर्ट के समक्ष पहले ही रोक को बढ़ाने के लिये याचिका दायर कर दी है।


More from तेलंगानाMore posts in तेलंगाना »
More from भारतMore posts in भारत »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *