Press "Enter" to skip to content

छत्तीसगढ़ मे अब आबकारी अमले को मिलेंगे आधुनिक हथियार

रायपुर। प्रदेश में शराब के बढ़ते कारोबार और तस्करी को रोकने सरकार आबकारी महकमे को और मजबूत करने जा रही है। सरकार इन्हें नए हथियारों के साथ-साथ आईपीसी की कुछ धाराओं के तहत अवैध कारोबार करने वालों पर कार्रवाई के अधिकार भी देगी। फिलहाल विभाग के पास आबकारी एक्ट के तहत केवल जब्ती के ही अधिकार दिए गए हैं।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़ी गाना दबा बल्लू कहने से टोकने पर युवक ने महिला की कर दी पिटाई

डीजीपी डीएम अवस्थी के नेतृत्व में बनाई जाने वाली कमेटी तय करेगी कि आबकारी अमले को कौन-कौन से हथियार दिए जा सकते हैं। मैदानी स्टाफ को हथियार चलाने व मेंटेनेंस की ट्रेनिंग देने के साथ आईपीसी के तहत कौन-कौन सी कानूनी कार्रवाई के अधिकार दिए जा सकते हैं, यह भी सिफारिशें की जाएंगी। सरकार ने इस साल शराब से 6 हजार करोड़ राजस्व जुटाने का लक्ष्य रखा है।

यह भी पढ़े: दो नाबालिग लड़कियों को बनाया हवस का शिकार…एक अपचारी बालक सहित दो आरोपी गिरफ्तार

इस लिहाज से आबकारी अमले को मजबूत करने की जरूरत है, जिससे वे ज्यादा सख्ती से तस्करी व अवैध शराब बिक्री पर रोक लगा सकें।आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक पिछले दिनों बजट पर हुई चर्चा के दौरान सीएम भूपेश बघेल ने इसकी अनुमति विभाग को दे दी है।

यह भी पढ़े: निधन के बाद राजीव कपूर की आखिरी फिल्म इस दिन होगी रिलीज…राम तेरी गंगा मैली फिल्म से बनाई थी पहचान

कार्रवाई के लिए गए 6 से 10 आबकारी स्टाफ पर 50-60 के समूह में तस्करों का हमला होता है। हाल के दिनों में तस्करों ने आबकारी अमले को जीप से कुचलने के साथ पिस्टल जैसे आधुनिक हथियारों से भी हमला किया है।हालांकि विभाग में अंग्रेजों के जमाने के रिवॉल्वर और 12 बोर की बंदूक तो हैं, लेकिन सभी आउटडेटेड हैं।

यह भी पढ़े: ट्रक में जा घुसी तेज रफ़्तार बाइक…एक की मौत,एक गंभीर रूप से घायल

रखरखाव नहीं होने के कारण चलने की स्थिति में नहीं हैं। सीएम को यह भी बताया गया कि इनके इस्तेमाल का अधिकार भी नहीं हैं। इसी तरह से अमला केवल आबकारी एक्ट के तहत केवल अवैध शराब की जब्ती भर कर सकता है। इस मामले में लोगों को गिरफ्तार कर पास के पुलिस थाने को सौंपना होता है। इस तरह से आबकारी आयुक्त ने पूरे कैबिनेट को प्रेजेंटेशन के तहत महकमे की मजबूती के लिए एक प्लान भी बताया। इस पर सीएम बघेल ने अपनी सहमति देते हुए जल्द से जल्द से कार्यवाही करने कहा है।

यह भी पढ़े: तीन गुना बढ़ा प्लेटफॉर्म टिकट का दाम: स्टेशन में प्लेटफॉर्म टिकट अब 10 की जगह 30 रुपये में मिलेगा…जानिए वजह

आबकारी को अभी केवल जब्ती का अधिकार

आबकारी अमले को वर्तमान में धारा 341 और 2 के तहत कार्यवाही का अधिकार है। इसमें स्टाफ केवल शराब की दुकान, डिस्टलरी और गोदामों में घुसकर केवल जब्ती कर सकता है। हालांकि दो साल पहले इस पर रोक लगा दी गई है। गिरफ्तारी के बाद मुलजिम को रखने पुलिस थाने भेजना होता है। नारकोटिक्स के मामलों में पुलिस के जैसे अधिकार हैं, लेकिन उसे स्टेब्लिश करने में आने वाली दिक्कतों को देखते हुए अमला हाथ खींच लेता है। मसलन गांजे की जब्ती का प्रकरण आबकारी स्टाफ करता ही नहीं, क्योंकि एक केस बनाने में 6-7 हजार रुपए खर्च करने पड़ते हैं और इसका रीइंबर्समेंट भी नहीं होता।

यह भी पढ़े: बड़ी खबर: ताजमहल अब जल्द कहलाएगा राम महल

स्टाफ और हथियारों की स्थिति

राज्य के आबकारी अमले में कांस्टेबल से लेकर आयुक्त तक करीब 900 का अमला है। इनमें 100 उपनिरीक्षक, 37 डीईओ, 74 सहायक डीईओ, 11 सहायक आयुक्त, 6 उपायुक्त, 2 सहायक आयुक्त और शेष सिपाही शामिल हैं। तस्करों के बड़े गिरोह और उनके हथियारों के मुकाबले आबकारी विभाग के पास 3-4 रिवॉल्वर, 2 से 3 ही 12 बोर बंदूक, 7-8 हथकड़ी और 50 गाड़ियां हैं।

यह भी पढ़े: इस साल 11 भाषाओं में आयोजित किया जाएगा नीट एग्जाम

300 जवानों की भर्ती जल्द

सूत्रों के अनुसार आबकारी विभाग में जल्द ही 300 जवानों की भर्ती होगी। अभी विभाग में 900 से 1000 स्टाफ हैं। इसके लिए कैबिनेट की अगली बैठक में प्रस्ताव लाया जा रहा है।

यह भी पढ़े: आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए 31 मार्च तक किए जाएंगे रजिस्ट्रेशन…सभी च्वाइस सेंटरों में मिल रही निशुल्क सेवा

More from रायपुरMore posts in रायपुर »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *