Press "Enter" to skip to content

रायपुर में शवों के अंतिम संस्कार के लिए जारी किया जा रहा है सरकारी ठेका

रायपुर। प्रदेश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है। कोरोना वायरस की जद में आने वालों की लगातार मौत हो रही है। रायपुर नगर निगम ने जहां श्मशान घाटों की संख्या में वृद्धि कर दी है, तो वहीं प्रदेश में पहली बार कोरोना से मरने वाले शवों का अंतिम संस्कार करने वालों के लिए प्रत्येक जोन में अलग-अलग टेंडर जारी कर रही है। नगर निगम द्वारा जारी ठेके में ठेकेदार को अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी से लेकर पीपी कीट तक की सारी व्यवस्था मुहैया करानी है।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़: 19 अप्रैल से उचित मूल्य की दुकानों में हितग्राहियों को किया जाएगा खाद्यान्न वितरण

दरअसल, कोरोना संक्रमण से मौतों का सिलसिला दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। ऐसे में शवों के अंतिम संस्कार के लिए शिफ्ट के हिसाब से कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जा रही है। ठेकेदार के चार से पांच कर्मचारी प्रत्येक श्मशान घाट पर नियुक्त किए गये हैं। वर्तमान में रायपुर नगर निगम के जोन क्रमांक पांच दो महीने का टेंडर जारी हुआ है। वहीं जोन क्रमांक दो में सोमवार तक टेंडर जारी हो जाएगा। नगर निगम के अधिकारी का कहना है कि व्यवस्था न बिगड़े इसलिए ऐसी व्यवस्था की जा रही है।

यह भी पढ़े: Ayushman Card बनवाने में अब नहीं लगेगा कोई पैसा, 5 लाख तक का इलाज भी बिल्कुल फ्री

ज्ञात हो कि रायपुर जिले में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इनमें दूसरे जिलों से अति गंभीर स्थिति में रेफर किए जा रहे मरीज भी शामिल हैं। ऐसे में शवों का सुरक्षित दाह संस्कार सबसे बड़ी चुनौती बन गया है। शवों से किसी को भी संक्रमण न फैले, इसलिए जरूरी है कि पूरे प्रोटोकॉल के तहत तमाम रीति-रिवाजों को भी ध्यान में रखते हुए उनका दाह संस्कार करना।

यह भी पढ़े: सूखी खांसी से पाना है छुटकारा तो आज से ही शुरू कर दें ये घरेलू उपाय, जल्द मिलेगा आराम

मगर, कोरोना से बढ़ती मौत के चलते निगम द्वारा बनाए गये 12 श्मशान घाट कम पड़ने लगे थे। जिसको देखते हुए निगम ने 13 श्मशान घाट नए शुरु कर दिए हैं। मगर, श्मशान घाटों पर शव को जलाने वालों की संख्या कम थी इसको देखते हुए निगम अपने प्रत्येक जोन में शवों के अंतिम संस्कार के लिए टेंडर जारी कर रहा है।

यह भी पढ़े: OMG! ऑनलाइन खरीदे थे सेव, डिलिवरी में आ गया Apple iPhone स्मार्टफोन

जोन पांच में सबसे पहले शुरु

जोन क्रमांक पांच के कमिश्नर चंदन शर्मा ने बताया कि वर्तमान में उनको सरयू बांधा श्मशान घाट की जिम्मेदारी मिली है। सरयू बांधा श्मशान घाट पर शवों को जलाने के लिए दो महीने का 50 के अंतिम संस्कार के लिए दो लाख 11 हजार का टेंडर जारी किया गया है। ठेकेदार सिर्फ शव को जलाने का काम करेगा बाकि अंतिम संस्कार में उपयोग आने वाली वस्तुओं को निगम से मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में सरयू बांधा श्मशान घाट में रोजाना आठ से दस शव का अंतिम संस्कार किया जा रहा है।

यह भी पढ़े: Bullion Market: छह दिनों में सोना 300 रुपये महंगा और चांदी 1700 रुपये उछली

जोन दो में सोमवार को जारी होगा टेंडर

जोन क्रमांक दो के कमिश्रर विनय मिश्रा ने बताया कि कोरोना से बढ़ते मौत के आंकडों को देखते हुए शव को जलाने के लिए छह माह का टेंडर जारी करने की स्वीकृति मिली है। सोमवार तक टेंडर जारी किया जाएगा। टेंडर दो प्रकार का किया जाएगा।

यह भी पढ़ेछत्तीसगढ़: शादी में 10 लोग हो सकेंगे शामिल…सिर्फ मरीजों की फीस के लिए खुलेंगे बैंक

इसमें एक टेंडर शव जलाने के लिए दो दूसरा शव जलाने की सामग्री जैसे लकड़ी, पीपीकीट और राल आदि का टेंडर अलग से होगा। टेंडर प्रक्रिया रेट के आधार पर होगा जिसका रेट कम होगा उसको टेंडर जारी किया जाएगा। देवेन्द्र नगर मुक्तिधाम में वर्तमान में एक दिन में करीब दस शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है।

यह भी पढ़े: मजदूरों से भरा पिकअप कुएं में गिरने से 2 की मौत, 6 घायल…उधर घर के सामने खड़ी 3 कार आग से खाक

वर्तमान में निगम दे रहा 15 हजार महीने

निगम से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में श्मशान घाट पर शव जलाने वाले एक कर्मचारी को 15 हजार रुपये महीने तथा कोरोना के शव को जलाने पर प्रत्येक शव पर एक हजार रुपये अतिरिक्त निगम द्वारा दिया जा रहा है।

यह भी पढ़े: Zomato के सीईओ दीपेंद्र गोयल ने Swiggy से मांगी माफी…जानिए वजह

More from रायपुरMore posts in रायपुर »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *