भारतराज्य

Indian Railway: कम दूरी वाली ट्रेनों के किराये में वृद्धि को लेकर रेलवे ने दिया जवाब

कम दूरी के ट्रेन किराए में वृद्धि को लेकर लोगों की चिंताओं पर रेलवे ने सफाई देते हुए बुधवार को कहा कि गैर जरूरी यात्राओं में कमी लाने के मकसद से किराए में मामूली वृद्धि की गई है। कोरोना लॉकडाउन में छूट के बाद से रेलवे सिर्फ स्पेशल ट्रेनें चला रहा है। शुरुआत में केवल लंबी दूरी की ट्रेनों का संचालन किया जा रहा था, लेकिन अब कम दूरी की पैसेंजर ट्रेनें भी चलाई जा रही हैं। रेल मंत्रालय के बयान के अनुसार, कोरोना महामारी के मद्देनजर विशेष प्रविधान के तहत इन ट्रेनों का किराया इतनी ही दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में अनारक्षित टिकट जितना तय किया गया है। उदाहरण के तौर पर अमृतसर से पठानकोट का किराया अब 55 रुपये है, जो पहले 25 रुपये था। इसी तरह जालंधर से फिरोजपुर तक डीएमयू का किराया 30 रुपये से बढ़कर 60 रुपये हो गया है। लेकिन रेलवे का कहना है कि किराए में यह मामूली वृद्धि लोगों को गैर जरूरी यात्राएं करने से रोकने के लिए की गई है।

इसे भी पढ़े: भारत बंद: इन मांगों को लेकर 8 करोड़ व्यापारी करेंगे हड़ताल

रेलवे ने अपने बयान में कहा है कि कोरोना का संकट अभी भी बना हुआ है और कुछ राज्यों में स्थिति बिगड़ रही है। कई राज्यों से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है और उन्हें यात्रा करने के लिए हतोत्साहित किया जा रहा है। किराए में मामूली वृद्धि को ट्रेनों में भीड़ को नियंत्रित करने और कोरोना को फैलने से रोकने के प्रयास के तौर पर देखा जाना चाहिए। रोजाना औसतन 1,250 मेल व एक्सप्रेस ट्रेनें तथा 5,350 उपनगरीय और 326 से अधिक पैसेंजर ट्रेनें चलाई जा रही हैं। रेलवे के अनुसार कम दूरी की पैसेंजर ट्रेनों की संख्या कुल ट्रेनों की संख्या का महज तीन फीसद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *