छत्तीसगढ़भारत

तीसरा ट्रायल होने के बाद ही भेजी जाए कोवैक्सीन…नहीं लगे तो खराब हो जाएगा टीका:-स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव

रायपुर। छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बड़ा बयान दिया है।

मंत्री सिंहदेव ने कहा कि वे कोवैक्सिन (COVAXIN) को लेकर केंद्र को दो बार पत्र लिख चुके हैं। मंत्री टीएस सिंहदेव के मुताबिक केंद्र सरकार को 2 बार पत्र लिखा कि तीसरा ट्रायल होने के बाद ही कोवैक्सिन भेजी जाए, लेकिन निवेदन को दरकिनार कर केंद्र सरकार कोवैक्सिन भेज रही है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा यदि इस स्थिति में कोई वैक्सीन नहीं लगवाएगा तो  टीका खराब हो जाएगा । राज्य में फिलहाल कोविशील्ड (COVIDSHIELD) वैक्सनी लगाई जा रही है।

भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी यूज अप्रूवल दे चुका है DCGA

इसे भी पढ़े

छत्तीसगढ़ में 13 नेशनल हाईवे को मिली मंजूरी…केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने की घोषणा

 

आपको बता दें कि जनवरी के पहले हफ्ते में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (Drug Controller General of India) ने भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी यूज अप्रूवल दिया था. कई राज्यों में लाखों लोगों को कोवैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है और इसका कोई गंभीर साइड इफेक्ट सामने नहीं आया है. बावजूद इसके छत्तीसगढ़ सरकार ने इस वैक्सीन की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े किए हैं. टीएस सिंह देव ने अपने पत्र में डॉ. हर्षवर्धन को जानकारी दी है कि छत्तीसगढ़ में अब तक 67% फ्रंट लाइन वर्कर्स को ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड की खुराक दी जा चुकी है.

तीसरे चरण के ट्रायल के बाद ही भेजें कोवैक्सीन की डोजः टीएस सिंहदेव

टीएस सिंह देव ने डॉ. हर्षवर्धन को लिखा है, ”हमने कोवैक्सीन की 186880 डोज प्राप्त की है. मैंने पहले ही कोवैक्सीन के उपयोग के संबंध में समुदाय के बीच चिंताओं को आपके साथ साझा किया है. हम कोवैक्सीन खुराक के साथ अपने लाभार्थियों का टीकाकरण करने से अधिक खुश होंगे, तीसरे चरण के परीक्षणों का परिणाम पूरा हो जाएगा और इसको साझा किया जाएगा. तब तक के लिए कोवैक्सीन न भेजें. क्योंकि टीके आमतौर पर आपातकालीन परीक्षण के तहत उपयोग करने योग्य नहीं होंगे. निर्णय पर पुनर्विचार करें ताकि वैक्सीन खुराक बर्बाद न हो.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *