Press "Enter" to skip to content

RERA में पंजीयन के बिना जमीन क्रय-विक्रय करने वाले बिल्डर पर 1 लाख रूपए का जुर्माना…पंजीयन के बिना विक्रय पर लगाया प्रतिबंध

रायपुर। छत्तीसगढ़ भू-सम्पदा विनियामक प्राधिकरण (रेरा) द्वारा धमतरी जिले के कुरूद स्थित रियल एस्टेट प्रोजेक्ट राम टाउन ‘एफ.बी.टाउन’ द्वारा रेरा में बिना पंजीयन के प्रोजेक्ट का विज्ञापन प्रचार-प्रसार और भू-खण्ड क्रय-विक्रय करने के कारण एक लाख रूपए की शास्ति अधिरोपित किया गया है।

इसे भी पढ़े: 7.90 करोड़ रुपए के नकली नोट जब्त: पुलिस ने 3 लोगों को किया गिरफ्तार…पूछताछ मे हुए कई बड़े खूलासे

साथ ही राम टाउन ‘एफ.बी.टाउन’ कुरूद द्वारा जब तक छत्तीसगढ़ रेरा में पंजीयन नहीं किया जाता है तब तक ग्राम चर्रा, पटवारी हल्का नम्बर 38 स्थित भूमि खसरा नम्बर -385, 361, 405, 355, 356/1, 357/1, 357/2, 358, 359/1, 359/2, 360, 376, 377, 333/2, 352/2, 373/2, 374/2, 375/2, 378/2 के विक्रय पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इस संबंध में कलेक्टर धमतरी एवं जिला पंजीयक को पत्र जारी कर निर्देशित किया गया है।

इसे भी पढ़े: केंद्र को 150 रुपये देकर राज्य करा सकते हैं मुफ्त टीकाकरण…कोरोना टीके की कम कीमत रख मोदी सरकार ने खत्म की अरबों रुपयों की मुनाफाखोरी

धमतरी जिले के कुरूद के प्रमोटर- संजय ओस्तवाल, कादर हुसैन, पता-हिंगनघाट, जिला-वर्धा, महाराष्ट्र एवं प्रशांत चन्द्राकर, पता-राम टाउन, तहसील ऑफिस के सामने, तहसील-कुरूद, जिला-धमतरी के द्वारा विकसित किया गया है। भू-संपदा (विनियमन और विकास) अधिनियम, 2016 की धारा 9 में वर्णित प्रावधानों के अनुसार रेरा में पंजीयन किये बिना किसी भी प्रमोटर व भू-संपदा अभिकर्ता द्वारा किसी भी रियल एस्टेट प्रोजेक्ट में यथास्थित, भू-खण्ड, अपार्टमेंट या भवन आदि को किसी भी रीति में विज्ञापित विपणित, बुक, विक्रय या विक्रय करने की प्रस्थापना अथवा क्रय के लिए व्यक्तियों को आमंत्रित नहीं किया जा सकता है।

इसे भी पढ़े: दोहरा हत्याकांड के आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा…प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश संतोष कुमार आदित्य का निर्णय।

उक्त प्रमोटर एवं अभिकर्ता द्वारा रेरा के उपरोक्त प्रावधानों का उल्लंघन करते हुए रेरा में पंजीयन किए बिना ही प्रोजेक्ट का विज्ञापन, प्रचार-प्रसार, भूखण्ड क्रय-विक्रय किया जा रहा है। प्राधिकरण द्वारा संज्ञान लेकर उक्त प्रोजेक्ट ’’राम टाउन’’ (एफ.बी.टाउन) के प्रमोटर एवं अभिकर्ता के विरूद्ध प्रकरण क्रमांक- SM-PRO-2019-00833 संधारित किया गया।

इसे भी पढ़े: DM ने पत्रकार को भेजा नोटिस…केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय के हस्तक्षेप पर लिया वापस…जानिये पूरा मामला

प्रकरण में विधिवत् सुनवाई करने के फलस्वरूप प्रोजेक्ट के प्रमोटर्स संजय ओस्तवाल एवं कादर हुसैन को उक्त कृत्य भू-संपदा (विनियमन और विकास) अधिनियम, 2016 की धारा 3 का उल्लंघन करना पाए जाने के कारण धारा-59 के तहत् राशि 1,00,000/- रूपए शास्ति अधिरोपित किया गया।

इसे भी पढ़े: BREAKING NEWS: ट्रेजरी के ज्वाइंट डायरेक्टर रहस्यमय तरीके से मंत्रालय से हुए लापता…पुलिस अधिकारियों में मचा हड़कंप…तलाश मे जुटी पुलिस

More from दुर्गMore posts in दुर्ग »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *