रायपुर

अनोखी शादी: 229 जोड़ों ने लिए अग्नि के सात फेरे…3 ने जीसस को साक्षी मान बदली अंगूठी…एक ने कहा- कुबूल है

11 माह बाद हुआ सरकारी आयोजन, हर जोड़े पर खर्च किए गए 25 हजार

शनिवार को राजधानी ऐसे अनोखे विवाह की गवाह बनी जहां मंच ताे एक था, लेकिन शादी के तौर-तरीके बिलकुल जुदा। एक ओर पंडित मंत्रोच्चार कर जोड़ों को अग्नि के फेरे पड़वा रहे थे, तो दूसरी ओर जीसस क्राइस्ट को साक्षी मानते हुए तीन जोड़ों ने अंगूठी बदली और एक-दूजे के हो गए।

इसे भी पढ़े: सक्ती में अवैध प्लाटिंग की रेड कारपेट बिकने के लिए सज कर तैयार…जिम्मेदार अधिकारी नही ले रहे अवैध कच्ची सड़क उखाड़ने में रुचि।

वहीं, एक जोड़े ने मौलवी के सामने निकाल कुबूल किया। इस भव्य विवाह समारोह में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत 10 हजार घराती-बाराती शामिल हुए। सभी ने नवदंपतियों को खूब आशीर्वाद दिया।

इसे भी पढ़े: बिलासपुर से दिल्ली के लिए सोमवार से शुरू होगी फ्लाइट…जबलपुर व प्रयागराज से भी होगा कनेक्शन

दरअसल, 11 माह बाद पहली बार शनिवार को इनडोर स्टेडियम में सामूहिक आदर्श विवाह का आयोजन किया गया। यहां 233 जोड़ों ने जीवन के नए सफर की शुरुआत की। इनमें से 229 हिंदू, 3 क्रिश्चन और एक जाेड़ा मुस्लिम था। सभी अलग-अलग धर्मों के थे, लिहाजा तैयारियां भी इसी हिसाब से की गई थीं।

इसे भी पढ़े: केंद्र ने निजी अस्पतालों के लिए तय की कोरोना वैक्सीन की दरें…सरकारी अस्पतालों में फ्री में लगेगा टीका

हिंदुओं का विवाह कराने 150 गायत्री परिजन, तो ईसाई और मुस्लिमों की शादी के लिए एक-एक पादरी व मौलवी को यहां बुलवाया गया था। सभी ने अपने-अपने रीति-रिवाज से शादी की। इसके बाद रिसेप्शन भी रखा गया जिसमें लोगों को लजीज व्यंजन परोसे गए।

इसे भी पढ़े: श्रमजीवी एक्सप्रेस के इंजन में लगी आग…सभी यात्री सुरक्षित

शाम को नवजीवन की मंगलकामनाओं के साथ नवदंपतियों को स्टेडियम से विदाई दी गई। हर जोड़े की शादी पर सरकार ने करीब 25 हजार खर्च किए। इसमें खाना-पंडाल समेत गृहस्थी की सामग्रियों का खर्च भी शामिल था। समारोह में सांसद छाया वर्मा, मंत्री अनिला भेंड़िया, रश्मि आशीष सिंह, डॉ. किरणमयी नायक, अनिता योगेंद्र शर्मा, कुलदीप जुनेजा, मेयर एजाज ढेबर, गिरीश देवांगन, रामगोपाल अग्रवाल भी शामिल हुए।

इसे भी पढ़े: दुनिया के सबसे अमीर देश अमेरिका ने भारत से लिया 15 लाख करोड़ से अधिक का कर्ज…चीन और जापान भी कर्जदाता

ये भी गजब… 7 नहीं, लिए 8 वचन

सामूहिक विवाह की एक खासियत यह भी रही कि आज तक सबने शादी के सात वचनों के बारे में ही सुना होगा, लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यहां नवदंपतियों को आठवां वचन भी दिलवाया। यह वचन था सुपोषण का। सीएम ने नवदंपतियों से कहा कि वे इस बात का ध्यान रखेंगे कि परिवार में कोई भी कुपोषित न हो।

इसे भी पढ़े: छत्तीसगढ़: 8 IAS अफसरों का हुआ प्रमोशन…राज्य सरकार ने जारी किया आदेश

सभी नवदंपतियों ने हंसी-खुशी यह वचन लेते हुए सीएम को आश्वस्त किया कि वे सुपोषण को लेकर पूरी तरह जागरूक रहेंगे। इस अवसर पर सीएम ने प्रतीकात्मक रूप से 5 जोड़ों को एक-एक हजार रुपए नगद और अन्य उपहार दिए। वर-वधुओं को बर्तन देने वाले कमलेश चोपड़ा और हाथ घड़ी देने वाले अंकित गांधी को सीएम ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया।

इसे भी पढ़े: सूने मकान में 4 लाख रूपए की चोरी…नकदी समेत सोना-चांदी ले उड़े चोर

और बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

शनिवार को रायपुर समेत प्रदेश के 22 जिलों में सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया। सभी जिले रायपुर में हुए मुख्य समारोह से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जुड़े थे। इस दौरान 3,229 जोड़ों की शादी हुई जो अपने आप में वर्ल्ड रिकॉर्ड है। इसे गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में भी दर्ज किया गया। इनडोर स्टेडियम में सोनल राजेश शर्मा ने इसकी घोषणा भी की। महिला एवं बाल विकास की सचिव शहला निगार ने बताया, मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत इस वर्ष 7 हजार 600 विवाह कराने का लक्ष्य रखा गया है।

इसे भी पढ़े: एक हफ्ते में 45 रुपए महंगा हुआ सिलेंडर: गैस सिलेंडर के दाम फिर 25 रु बढ़े…शहर में 860 में मिल रहा…दो माह में 150 तक वृद्धि

फिजूलखर्ची से बचने सब अपना रहे सामूहिक विवाह: भूपेश

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद देते हुए कहा, माघी पुन्नी के शुभ अवसर पर वर-वधु विवाह बंधन में बंध रहे हैं। यह हमारा सौभाग्य है कि एक साथ बराती और घराती बनने का अवसर मिला है। कन्यादान से बड़ा कोई पुण्य नहीं है। उन्होंने कहा, वर्तमान में शादियों में होने वाले फिजूलखर्ची से लोग उकता चुके हैं।

इसे भी पढ़े: भोजपुरी गाने में दिखेगा हरियाणवी डांसर सपना चौधरी का तड़का…इस सुपरस्टार के साथ मचाएंगी धमाल

इसमें समय के साथ साधन का भी अपव्यय होता है। यही वजह है कि अब लगभग हर समाज में सामूहिक विवाह को अपनाया जा रहा हे। आदिवासियों में भी। यह एक नेक शुरुआत है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह के तहत पहले 15 हजार रुपए का प्रावधान था। इसे बढ़ाकर हमने 25 हजार रुपए कर दिया है।

इसे भी पढ़े: रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट: डेढ़ हजार जवानों के घेरे में खिलाड़ी…सुरक्षा पर 4.5 करोड़ रूपए खर्च

मंत्री अनिला भेंड़िया ने कहा कि प्रदेश के मुखिया व्ययस्तम समय में भी स्वयं सभी नवविवाहित वर-वधुओं को आशीर्वाद देने पहुंचे हैं। पिछले वर्ष कोरोना के कारण आयोजन संपन्न नहीं हो पाया था। बड़ी संख्या में कई घर परिवार के लोग आज इस कार्यक्रम में उपस्थित हुए हैं, जिससे सभी का आशीर्वाद सभी नवविवाहितों को मिल रहा है।

इसे भी पढ़े: क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर गुंडागर्दी: नशे की हालत में पुलिस चौकी में कर रहा था मोबाइल से रिकार्डिंग…कांस्टेबल ने मना किया तो युवक ने मारपीट करके फाड़ी वर्दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *