Press "Enter" to skip to content

छत्तीसगढ़ में कब सुलझेगा स्कूल फीस विवाद…मानसिक रूप से परेशान बच्ची ने दी आत्महत्या की चेतावनी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में निजी स्कूलों के फीस विवाद का मसला अभी तक पूरी तरह से नहीं सुलझा है. निजी स्कूलों के मनमानी के चलते बच्चे मानसिक रूप से परेशान हो रहे है. यही वजह है कि बच्ची साल भर पढ़ाई करने के बाद परीक्षा से वंचित कर देने की धमकी के कारण आत्महत्या कर लेने की चेतावनी दी है. नियम कानून होते हुए भी बच्चों में मानसिक दबाव और आत्महत्या करने की बात करना बहुत ही चिंताजनक है. अब बच्चों के मन से सरकारी तंत्र से भरोसा ही उठ गया है.

इसे भी पढ़े: छत्तीसगढ़ मे कोरोना संक्रमित छात्र भी दे सकेंगे 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षा…माध्यमिक शिक्षा मंडल ने जारी किया आदेश

मानवाअधिकार आयोग के सचिव बिंदु मोल ने बताया कि बीती रात होलीक्रास बैरन बाजार में पढ़ने वाली छात्रा उनके पास आई थी. उसने कहा कि यदि मुझे स्कूल से निकाला गया या परीक्षा से वंचित किया गया, तो आत्महत्या कर लूंगी. उस छात्रा को समझाने और ब्रेन वास करने में एक घंटा से भी अधिक का समय लग गया.

इसे भी पढ़े: छत्तीसगढ़ मे सरकारी हेलीकॉप्टर-विमान के रखरखाव पर 16 करोड़ रूपए खर्च

उन्होंने कहा कि निजी स्कूलों के द्वारा बच्चों को दबाव बनाना गलत है. इससे बच्चे मानसिक दबाव के शिकार हो रहे हैं. अपने आप को दूसरे बच्चों की तुलना में कमजोर समझने लग गए हैं. सचिव बिंदु मोल ने कहा कि बच्चों के अधिकार के लिए नियम कानून है, लेकिन कार्रवाई नहीं हो रही यह गंभीर बात है. इसका दुष्प्रभाव बच्चों में हो रहा है. इसको लेकर आज बाल आयोग से शिकायत की गई है. वहां से संबंधित विभाग को लेटर जारी कर कार्रवाई करने की बात कही गई है.

इसे भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट में पैदा हुई अजीब स्थिति: लॉ स्टूडेंट की याचिका पर CJI की टिप्पणी…यह अमेरिकी कोर्ट नहीं…पढ़िए पूरा किस्सा

बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सचिव प्रतीक खरे ने कहा कि मामला गंभीर है. उन्होंने तत्काल स्कूल शिक्षा सचिव, संचालक को लिखा पत्र लिखकर जांच कर कार्रवाई करने का आग्रह किया है. छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग में वर्तमान समय में अध्यक्ष और समस्त सद्स्यों का कार्यकाल समाप्त हो चुका है. ऐसी स्थिति में प्रकरण में सुनवाई संभव नहीं है. इसलिए प्रकरण संज्ञान लेकर नियमानुसार कार्रवाई करें. ताकी बच्चों के अधिकारों का हनन न हो और बाल अधिकारों का संरक्षण किया जा सकता है.

इसे भी पढ़े: कन्यादान में शख्स ने दिया 2 लीटर पेट्रोल…तेल की बढ़ती कीमतों से खफा होकर लिया फैसला

More from भारतMore posts in भारत »
More from रायपुरMore posts in रायपुर »

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *